मैं और मेरी पंचायत. चाहे ऑफिस हो, या हो घर हम पंचायत होते हर जगह देख सकते हैं. आइये आप भी इस पंचायत में शामिल होइए. जिदगी की यही छोटी-मोटी पंचायतें ही याद रह जाती हैं - वरना इस जिंदगी में और क्या रखा है. "ये फुर्सत एक रुकी हुई ठहरी हुई चीज़ नहीं है, एक हरकत है एक जुम्बिश है - गुलजार"

Monday, November 10, 2008

वो ननिहाल की कुछ धुंधली यादें.

Desert herdsman (India)Image by Ahron de Leeuw via Flickr
१९८६ की मई-जून की गर्मियां, ...... वो ननिहाल की कुछ धुंधली यादें... तब हम पांचवीं की परीक्षा दे के पहली और आखिरी बार ननिहाल गए थे...

वो गाँव का कच्चा घर... मिटटी का बना चूल्हा ... नानी, मौसी और मम्मी का खुशी से वहीं खाना बनाना...

बिजली का न होना, फिर भी कभी मम्मी या मौसी से ये न कहना कि कोई दिक्कत हो रही है.

वो खुले में निपटने जाना...

हमारा और हमारे बब्बू भइया के साथ, बैल की सहायता से गन्ने का रस निकालना. बैलों का हांकना...

वो नाना का अपने घर की भैंस दुहना...और कड़क आवाज में हमें निर्देश देना...

वो नाना का हुक्का पीना... घर के बरामदे में...

वो नानी का, ताजे ताजे गन्ने के रस से गुड का ताजा गरम गरम खांड तैयार करना और हमारा उसको मजे ले के खाना.

मम्मी का उस दौरान फोटो लेना, सभी की फोटो में कभी सर तो कभी दाहिना कान, तो कभी आधा मुहं, तो कभी सिर्फ़ गर्दन की नीचे का ही फोटो आना.. पर फोटो देख के सभी का हँसना ... किसी को भी इसकी शिकायत न होना...

और फिर कई कोस चल के कच्चे रास्ते से बस पकड़ने जाना..और हमारा वो भोलापन - कि लौटते वक्त, हमारा और बब्बू भइया (हमारे मौसी के लड़के ) का रुक - रुक के रास्ते में पड़ने वाले हर पेड़ की छाल को कुरेच के निशाँ बनाना - कि जब फिर लौट के आयेंगे तो रास्ता याद रहेगा....
Reblog this post [with Zemanta]

4 comments:

  1. अरे भई, बड़ी पुरानी यादों में डुबो दिया..हमें तो आपसे एक आलेख का मैटर मिल गया..आपके साभार जल्दी ही आयेगा. :) धन्यवाद!!

    ReplyDelete
  2. waah nanihaal yaad dila diya badi sundar yaadein hai

    ReplyDelete
  3. maja aa gaya dost....infact jab in concrete k juncle me rahte hue jada din ho jata hai to mujhe yahi sab cheejen (gaon...nanihaal) yaad aane lagti hai....

    nice article

    -on behalf of manish...

    ReplyDelete
  4. हमारी पुरानी यादें भी ताज़ा हो गई आपके संस्मरण पढ़ कर।

    ReplyDelete

विचारों को पढने और वक्त निकाल के यहाँ कमेन्ट छोड़ने के लिए आपका शुक्रिया

Related Posts with Thumbnails

my Podcast

About Me

My photo
Bangalore, Karnataka, India
A software engineer by profession and in search of the very purpose of my life. At present, living in Bangalore and blog about my musings over technology, life, learnings and thinking mind.

शुक्रिया

www.blogvani.com

रफ़्तार

IndiBlogger - Where Indian Blogs Meet

India Counts

Follow me on twitter

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner